जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
सपा विधायक बोले- साले को बचाने के लिए थाने पर जीजा तैनात, कैसे मिलेगा न्याय
पुलिस कोई भी ऐसी पहल नहीं की है, जिससे यह दिखाई देता हो कि पुलिस इस मामले में संवेदनशील है और इमानदारी से कार्यवाही कर रही है। इस मामले पर मनोज सिंह काका ने कहा कि अधिकारियों ने समाजवादी पार्टी से समय मांगा है और पार्टी के नेताओं ने उन्हें समय देते हुए इस बात की चेतावनी भी दी है कि अगर जल्द से जल्द मुकदमे में 302 की धारा नहीं लगाई गई और आरोपी पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी नहीं हुई तो सड़क पर आंदोलन खड़ा किया जाएगा।
 

सपा के नेताओं ने प्रशासन को दी चेतावनी, न्यायिक अधिकारी से जांच की मांग, पुलिस वालों पर कार्रवाई नहीं हुयी तो सड़क पर होगा आन्दोलन

समाजवादी पार्टी के नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल आज अधिकारियों से मिलने के बाद पीड़ित परिवार से भी जिला अस्पताल में जाकर मिला और कहा कि वह पुलिस की कार्यवाही से अब तक संतुष्ट नहीं है और पुलिस की जांच पर उनको तनिक भी भरोसा नहीं है। समाजवादी पार्टी के नेताओं ने इस बात की मांग की कि इस पूरे मामले की किसी न्यायिक अधिकारी से जांच कराई जाए तभी निष्पक्ष जांच हो पाएगी, क्योंकि घटना के बाद से  पुलिस ने साले को बचाने के लिए जीजा को तैनात कर दिया है। 

सपा नेताओं ने कहा कि सैयदराजा पुलिस कोई भी ऐसी पहल नहीं की है, जिससे यह दिखाई देता हो कि पुलिस इस मामले में संवेदनशील है और इमानदारी से कार्यवाही कर रही है। इस मामले पर मनोज सिंह काका ने कहा कि अधिकारियों ने समाजवादी पार्टी से समय मांगा है और पार्टी के नेताओं ने उन्हें समय देते हुए इस बात की चेतावनी भी दी है कि अगर जल्द से जल्द मुकदमे में 302 की धारा नहीं लगाई गई और आरोपी पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी नहीं हुई तो सड़क पर आंदोलन खड़ा किया जाएगा।

 वही प्रतिनिधिमंडल में शामिल विधायक प्रभु नारायण सिंह यादव ने कहा कि वह पीड़ित परिवार के साथ हैं और प्रशासन को इस बात की चेतावनी दे रहे हैं कि जल्द से जल्द दोषी पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी करके कार्यवाही की जाए। समाजवादी पार्टी के विधायक प्रभु नारायण सिंह यादव ने कहा कि उपेंद्र प्रताप सिंह को हटाकर उनकी जगह जिस थानाध्यक्ष को तैनात किया गया है वह उनका रिश्तेदार है। जीजा को उस थाने पर तैनाती देकर पुलिस ने साले को बचाने का मौका दे दिया है। उन्होंने इस बात पर गहरी आपत्ति जताई है और प्रशासन को ईमानदारी से जांच कराने की बात कही है।

आपको बता दें कि उपेन्द्र प्रताप को हटाकर अधिकारियों नें संतोष कुमार सिंह को नए थानाध्यक्ष के रूप में तैनात किया है। लेकिन उनकी तैनाती पर भी सवाल उठने लगे हैं। ऐसा लगता है कि पुलिस को एक बार फिर से वहां किसी दूसरे थानाध्यक्ष को तैनात करना होगा।