जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
ग्रामीणों ने साधु के भेष में बुजुर्ग को समझा बच्चा चोर, पीटकर किया पुलिस के हवाले
ग्रामीणों ने पहले बुजुर्ग साधु के भेष में इस व्यक्ति की जमकर धुनाई की। इसके बाद स्थानीय कोतवाली पुलिस को सूचना दी।
 

चंदौली जिले के चकिया क्षेत्र के मंगलौर गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय के पास गुरुवार की दोपहर ग्रामीणों ने साधु के भेष में एक बुजुर्ग को बच्चा चोर समझकर पकड़ लिया और जमकर धुनाई करने के बाद स्थानीय कोतवाली पुलिस को सूचना देकर बुलाकर सौंप दिया। 

यहां पर प्राथमिक विद्यालय में पढ़ने वाली कक्षा 4 की एक छात्रा ने आरोप लगाया कि यह टाफी और सेव का लालच देकर उसे बुला रहा था, पकड़कर ले जाने की फिराक में था। वहीं साधु को हिरासत में लेकर पुलिस  मामले की कार्रवाई में जुट गई।

मिली जानकारी के अनुसार चकिया कोतवाली क्षेत्र के मंगलौर गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय के पास साधु के भेष में एक बुजुर्ग घूमता हुआ दिखाई दिया। जहां सुनसान इलाके में उसे  देखकर ग्रामीणों ने उसे बच्चा चोर समझ लिया। वहां ग्रामीणों की अधिक संख्या में भीड़ इकट्ठा हो गई। ग्रामीणों ने पहले बुजुर्ग साधु के भेष में इस व्यक्ति की जमकर धुनाई की। इसके बाद स्थानीय कोतवाली पुलिस को सूचना दी। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों से किसी तरह छुड़ाकर साधु को कोतवाली ले आई। 

वहीं प्राथमिक विद्यालय में कक्षा चार में पढ़ने वाली छात्रा छोटी कुमारी ने बताया कि वह स्कूल से पढ़कर आ रही थी, तभी वह साधु उसे टाफी और सेव दिखाकर बुला रहा था और बहला फुसला कर कहीं अन्यत्र ले जाने पर और चीजें देने को कह रहा था। जिस पर छात्रा ने शोर मचाया तो ग्रामीणों ने उसे पकड़ लिया। 

 चकिया कोतवाली पहुंचे साधु के भेष में बुजुर्गों के परिजन एवं दामाद ने बताया कि उसका मानसिक संतुलन ठीक नहीं है। वह 4 दिनों से अपने घर से लापता थे। इनकी घर के लोगों के द्वारा खोजबीन की जा रही थी। यह व्यक्ति गांव में तथा अन्य जगहों पर साधु-संतों के साथ रहता है। जिसके बाद पुलिस ने सुपुर्दगी नामा लिखा कर साधु के भेष में रहने वाले इस व्यक्ति को उसके परिजनों को सौंप दिया।

वहीं इस संबंध में कोतवाली प्रभारी राजेश यादव ने बताया कि ग्रामीणों द्वारा एक व्यक्ति को पकड़ा गया था।  जिसे  बच्चा चोर बताया जा रहा था। उसे पकड़कर कोतवाली लाया गया। वहीं साधु के परिजनों के आने पर उसे सौंप दिया गया है।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*