जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
सपा विधायक ने पुलिस कार्रवाई की जिलाधिकारी से की शिकायत, उत्पीड़न रोकने की मांग
समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष सत्यनारायण राजभर ने कहा कि कुछमन और मुस्तफापुर में हुई घटनाएं पुलिस की गुप्तचर एजेंसियों की फेल होने का परिणाम है। युवक हिंसा पर उतारू नहीं थे, लेकिन पुलिस के दमनकारी नीतियों के चलते युवकों के बीच आक्रोश पनपा और इसके बाद घातक परिणाम देखने को मिले।
 

निर्दोषों के खिलाफ कार्रवाई न करने की मांग, गिरफ्तार लोगों को रिहा करने की मांग

 

चंदौली में अग्निपथ के विरोध में हुई तोड़फोड़ की वारदात के बाद पुलिस के द्वारा की जा रही कार्रवाई के खिलाफ समाजवादी के नेताओं ने जिलाधिकारी पास जाकर शिकायत की है। बवाल के बाद आरोपी युवकों की तलाश में जुटी पुलिस व उनके द्वारा की जा रही कार्रवाई को लेकर समाजवादी पार्टी के पदाधिकारी और नेता जिलाधिकारी से निर्दोष लोगों के खिलाफ कार्यवाई न करने की बात कही है। पुलिस मामले के नाम अकारण निर्दोष लोगों को घर और रास्ते से उठाकर मारपीट व अभद्र व्यवहार कर उनको फर्जी धाराओं में जेल भेजने का काम कर रही है।

समाजवादी पार्टी के नेता अब मोर्चा खोलकर युवकों के बचाव में उतरने की तैयारी कर रहे हैं। साथ ही पुलिस प्रशासन पर आरोप लगाया कि पुलिस उपद्रवी के नाम पर निर्दोष लोगों को फंसाने का काम कर रही है। अगर ऐसी कार्रवाई की गई तो समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता चुप नहीं बैठेंगे। 

इस मौके पर सकलडीहा से समाजवादी पार्टी के विधायक प्रभुनारायण सिंह यादव ने कहा कि अग्निपथ योजना को लेकर देशव्यापी विरोध के दौरान नौजवानों द्वारा उत्तेजित होकर राष्ट्रीय संपत्ति को निशाना बनाया गया। इसका हम लोग विरोध करते हैं। लेकिन चंदौली में कहीं हिंसक वारदात नहीं हुई। अपवाद स्वरूप कुछ जगहों पर नौजवानों का गुस्सा फूटा। जिसमें पुलिस घटना का बहाना बनाकर अकारण निर्दोष लोगों को घर और रास्ते से उठाकर मारपीट व अभद्र व्यवहार कर उनको फर्जी धाराओं में जेल भेजने का काम कर रही है। यह कहीं से जायज नहीं है।

समाजवादी पार्टी के नेताओं ने कहा कि पुलिस इस दमनकारी उत्पीड़न की कार्रवाई पर तत्काल रोक लगाते हुए अब तक गिरफ्तार किए गए निर्दोष छात्रों, युवाओं को अविलंब रिहा किया जाए। अगर पुलिस की कार्रवाई रोकी नहीं जाती है कि बेकसूर और निर्दोष लोगों को फंसाए जाने के विरोध में समाजवादी पार्टी धरना प्रदर्शन करने को बाध्य होगी। 

समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष सत्यनारायण राजभर ने कहा कि कुछमन और मुस्तफापुर में हुई घटनाएं पुलिस की गुप्तचर एजेंसियों की फेल होने का परिणाम है। युवक हिंसा पर उतारू नहीं थे, लेकिन पुलिस के दमनकारी नीतियों के चलते युवकों के बीच आक्रोश पनपा और इसके बाद घातक परिणाम देखने को मिले।

समाजवादी पार्टी के नेताओं ने कहा कि पुलिस वीडियो फुटेज के आधार पर ही युवकों को पहचान करके उनकी गिरफ्तारी करें। निर्दोष लोगों की गिरफ्तारी और मुकदमे के बाद युवाओं का भविष्य चौपट हो सकता है। प्रतिनिधिमंडल में पूर्व विधायक जितेंद्र कुमार एडवोकेट, खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के पूर्व सदस्य संतोष यादव, युवजन सभा के जिलाध्यक्ष चंद्रशेखर यादव, लोहिया वाहिनी के प्रदेश सचिव प्रदीप यादव शामिल रहे।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*