जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
कार्डधारकों को अगले माह से नहीं मिलेगा मुफ्त चावल, कार्डधारकों की बढ़ी मुश्किल
 

चंदौली जिले में सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों से अक्टूबर महीने से मुफ्त में मिल रहा चावल अब नहीं मिलेगा। सरकार ने इस पर रोक लगा दी है। प्रति यूनिट के हिसाब से उन्हें दो किलो चावल और तीन गेहूं मिलता था। इसमें चावल नहीं दिया जाएगा। इससे कार्डधारकों को मुश्किल का सामना करना पड़ सकता है।


बताते चलें कि चंदौली जिले में लगभग तीन लाख कार्डधारक हैं। संक्रमण काल में पात्र गृहस्थी व अंत्योदय कार्डधारकों को प्रति यूनिट पांच किलो राशन दिया जाता था। चावल और गेहूं मिलने से कार्डधारकों को काफी सहूलियत थी। कोरोना संक्रमण अब काबू में है। वहीं कामकाज व कल-कारखाने भी शुरू हो गए हैं। ऐसे में गरीबों के लिए रोजगार के विकल्प भी मौजूद हैं। ऐसे में सरकार ने मुफ्त चावल देने की व्यवस्था अब बंद करने का निर्णय लिया है। उन्हें प्रति यूनिट पांच किलो गेहूं मिलेगा। हालांकि कार्डधारक निर्धारित शुल्क अदा कर कोटे की दुकानों से चावल प्राप्त कर सकते हैं। कार्डधारकों को कोटे की दुकानों से न्यूनतम रेट पर अनाज दिया जाता है। 


जिले में 244673 पात्र गृहस्थी और 52495 अंत्योदय कार्डधारक हैं। इन्हें हर माह सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों से राशन का वितरण किया जाता है। कोरोना काल में सभी को मुफ्त राशन दिया जाता था। इसकी निगरानी के लिए नोडल अधिकारियों की टीम तैनात थी। राशन वितरण में लापरवाही बरतने वाले कोटेदारों को चिह्नित कर उनके खिलाफ कार्रवाई भी की गई। 


इस संबंध में डिप्टी आरएमओ अनूप कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि जिले में कोटे की 813 दुकानें हैं। कोटेदार हर माह दो बार राशन का वितरण करते हैं। पहली दफा माह की पांच और दूसरी दफा 15 तारीख को राशन का वितरण शुरू कर देते हैं। उन्हें जिला खाद्य विपणन विभाग के गोदामों से राशन दिया जाता है। 'अक्टूबर के वितरण में कार्डधारकों को मुफ्त चावल नहीं दिया जाएगा। उन्हें प्रति यूनिट पांच किलो गेहूं ही मिलेगा। कोटेदारों को इसके अनुसार ही चावल का स्टाक दिया जाएगा।