जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
बच्चों के मां-बाप पूछ रहे हैं, शीतलहरी में 9-12 तक के स्कूल खुलेंगे या बंद रहेंगे
नए साल में शीत लहरी का प्रकोप जारी है, हालांकि जिला प्रशासन को इसका आभास नहीं हो रहा है क्योंकि साहब लोग घरों व ऑफिस में हीटर जलाकर बैठ रहे हैं और बाहर बंद गाड़ियों में निकल रहे हैं।
 

बच्चों के मां-बाप पूछ रहे हैं

शीतलहरी में 9-12 तक के स्कूल खुलेंगे या बंद रहेंगे

23-24 दिसंबर से ज्यादा पड़ रही है ठंड

नहीं आया इंटर कालेजों के लिए कोई आदेश

चंदौली जिले में नए साल में शीत लहरी का प्रकोप जारी है, हालांकि जिला प्रशासन को इसका आभास नहीं हो रहा है क्योंकि साहब लोग घरों व ऑफिस में हीटर जलाकर बैठ रहे हैं और बाहर बंद गाड़ियों में निकल रहे हैं। लोग 23-24 दिसंबर के शीतलहर वाले आदेश को लेकर साहब से तरह तरह के सवाल पूछे जा रहे हैं। 

हालांकि जिले में बेसिक शिक्षा विभाग के द्वारा इस दौरान कक्षा 1 से लेकर 8 तक के स्कूल शीतावकाश के चलते 1 जनवरी से लेकर 14 जनवरी तक बंद कर दिया है, लेकिन इस दौरान प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक और अध्यापक आवश्यक कार्यों को संपादित कराने के लिए विद्यालय में मौजूद रहेंगे। लेकिन कक्षा 9 से लेकर 12 तक के छात्र-छात्राओं के बारे में अभी तक कोई आदेश या शासनादेश नहीं आया है। लगातार बढ़ रहे कोहरे और शीतलहर की वजह से परिजन इस बात को लेकर परेशान हैं कि बच्चों के स्कूल बंद होंगे या खुले रहेंगे। इस बारे में शासन या चंदौली जिले के अधिकारियों ने अभी तक कोई फैसला नहीं किया है। 

चंदौली जिले के लोगों का कहना है कि 23 और 24 दिसंबर को जब चंदौली जनपद के जिलाधिकारी ने शीतलहरी का प्रकोप देखते हुए स्कूल कॉलेजों को बंद किया था, लेकिन उससे अधिक ठंड पड़ने पर जिलाधिकारी को यह शीतलहरी क्यों नहीं महसूस हो रही है। जिलाधिकारी के पहले वाले आदेश को लेकर तरह तरह के राजनीतिक बयान और प्रतिक्रियाएं भी आ रही हैं, क्योंकि अगर शीतलहरी के चलते उस समय स्कूल बंद किए गए थे। तो मौजूदा समय में उससे अधिक ठंड पड़ रही है और कक्षा 9 से लेकर 12 तक के स्कूल कालेजों के बारे में अभी तक न तो जिला विद्यालय निरीक्षक की ओर से कोई आदेश आया है और ना ही जिलाधिकारी की ओर से।

Cold and Fog Chandauli School

 लोगों ने जिलाधिकारी तथा जिले के अन्य अधिकारियों से अपील की है कि बढ़ती हुई ठंड को देखते हुए कक्षा 12 तक के छात्र-छात्राओं के स्कूल भी आगामी कुछ दिनों तक के लिए बंद कर दिए जाएं, जिससे बच्चों को इस शीतलहरी में बचाया जा सके।

अधिवक्ता व कांग्रेस पार्टी के नेता नारायण मूर्ति ओझा अधिकारी ने कहा कि ऐस लगता है कि चंदौली के अफसर भी नेताओं की तरह राजनीतिक रंग में रंग रहे हैं और बच्चों के जीवन से खिलवाड़ कर रहे है। जिस समय ठंड कम थी और मोदीजी कार्यक्रम में गाड़ियां भेजनी थी तो 23-24 दिसंबर को शीतलहरी के कारण बंद कर दिए गए थे। अब जब पहले से अधिक कोहरा व ठंड पढ़ रहा है तो साहब के ठंड महसूस ही नहीं हो रही है। जिलाधिकारी तो तत्काल सार्वजनिक स्थानों पर अलाव जलवाने के साथ साथ कंबल वितरण कराने के काम में तेजी लानी चाहिए और बच्चों के स्कूल कालेज बंद कर देना चाहिए। 

इस संबंध में बात करके जानकारी साझा करने के लिए शाम 7 बजे तक जिलाधिकारी को कई बार फोन मिलाया गया, लेकिन उनसे भी संपर्क नहीं हो सका। वहीं जिला विद्यालय निरीक्षक ने फोन ही रीसीव नहीं किया। जिला सूचना विभाग ने भी ऐसी किसी सूचना से इंकार किया है।