जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
ओमिक्रोन के खतरे को देख बूस्टर डोज की तैयारी, आज से इन लोगों को लगेगा तीसरा टीका
चंदौली जिले में कोरोना के खतरनाक वैरिएंट ओमिक्रोन संक्रमण के बीच टीकाकरण को लेकर स्वास्थ्य विभाग अपनी तैयारियों को लेकर सचेत हो गया है।
 

जानिए किनको पहले लगेगा कोरोना का तीसरा टीका

इनके बूस्टर डोज के लिए बना है प्लान

पढ़िए चंदौली की पूरी तैयारी

चंदौली जिले में कोरोना के खतरनाक वैरिएंट ओमिक्रोन संक्रमण के बीच टीकाकरण को लेकर स्वास्थ्य विभाग अपनी तैयारियों को लेकर सचेत हो गया है। खतरे से सबसे अधिक जूझने वाले चिकित्सकों, स्वास्थ्यकर्मियों व अन्य विभागों के फ्रंटलाइन वर्कर्स को कोरोनारोधी वैक्सीन की बूस्टर डोज लगाने का कार्य सोमवार से शुरू होने जा रहा है, जिसकी तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा चुका है। 

चंदौली जिले में देखा जाय तो 11,840 फ्रंटलाइन वर्कर, 10,328 स्वास्थ्यकर्मी व 60 साल से अधिक आयु वाले 1,83,892 वरिष्ठ नागरिक चिह्नित किए गए हैं। इन्हें पहले ही वैक्सीन की दो डोज लग चुकी है। दूसरे टीकाकरण की तिथि से नौ माह पूरे करने वाले लोगों को बूस्टर डोज लगेगी। 

कहा जा रहा है कि कोरोना संक्रमण के दौरान लाकडाउन में भी फ्रंटलाइन वर्कर, पुलिसकर्मियों, चिकित्सकों व स्वास्थ्यकर्मियों को तमाम तरह की चुनौती से जूझना पड़ता है। संक्रमण का सबसे अधिक खतरा इन्हें रहता है। कोरोना की पिछली दो लहर में चिकित्सक व पुलिसकर्मी संक्रमित हुए और कई लोगों को अपनी जान भी गंवानी पड़ी। स्वास्थ्य विशेषज्ञ तीसरी लहर के नजदीक होने की आशंका व्यक्त कर रहे हैं। ऐसे में विभाग अलर्ट हो गया है। 

Covid Vaccination

वैसे अगर देखा जाय तो चिकित्सकों, स्वास्थ्यकर्मियों व फ्रंटलाइन वर्कर्स को पहले से ही कोरोनारोधी वैक्सीन की दो डोज लग चुकी है। उन्हें अब बूस्टर डोज लगाई जाएगी। हालांकि अभी उन्हें ही टीका लगेगा, जिनको दूसरा टीकाकरण कराए नौ माह का समय बीत चुका होगा। 

ऐसी है तीसरी डोज की तैयारी


जिले में सारे स्वास्थ्यकर्मियों व फ्रंटलाइन वर्कर्स को पहले ही कोरोनारोधी टीका की दो डोज लग चुकी है। इसलिए सभी को बूस्टर डोज के दौरान सावधानी बरती जाएगी। उन्हें उसी वैक्सीन की डोज लगाई जाएगी, जिसकी दो डोज पहले लग चुकी है। अलग तरह की वैक्सीन लगने से दिक्कत हो सकती है। टीकाकरण में जुटे स्वास्थ्यकर्मियों को इसके बाबत स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं और सारा काम प्रोटोकाल के हिसाब से ही होगा।