जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
सरकारी अस्पताल में जरूरत हो तो किसी मरीज की जान बचाने के लिए फ्री सेवा देने को तैयार हैं डॉ. गौतम त्रिपाठी
डॉ. गौतम त्रिपाठी चंदौली जिले में सूर्या हॉस्पीटल एंड ट्रामा सेंटर के प्रतिष्ठित चिकित्सक हैं और यहां पर कई अन्य विशेषज्ञ चिकित्सकों के साथ चंदौली जनपद के लोगों को सस्ती और उच्चस्तरीय चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की पहल कर रहे हैं।
 

 किसी मरीज की जान बचाने के लिए फ्री सेवा 

नए साल में जिले के अफसरों व जनप्रतिनिधियों से अपील

जब जरूरत हो कर सकते हैं याद

चंदौली जिले के चर्चित अस्थि रोग विशेषज्ञ और सर्जन डॉ. गौतम त्रिपाठी का कहना है कि चंदौली जिले में स्वास्थ्य सुविधाएं कम जरूर हैं, लेकिन धीरे-धीरे उनका उत्तरोत्तर विकास हो रहा है। चंदौली जिले में जब कोई मरीज किसी बीमारी से परेशान हो तो उसे या उसके घर परिवार वालों को बहुत सोच समझ कर अपना चिकित्सक चुनना चाहिए, नहीं तो उसके इलाज में काफी परेशानियां हो सकती हैं।

 गौतम त्रिपाठी ने नए साल पर चंदौली जनपद के वासियों को शुभकामना संदेश देते हुए कहा कि चंदौली जिला उनका अपना जिला है और इस जिले से उनको बहुत बड़ा लगाव है। तभी अपनी चिकित्सा सेवा की डिग्री लेकर वह चंदौली जिले में यहां के मरीजों की सेवा करने और उनकी जान बचाने के लिए आए हैं। वह इसके लिए हमेशा तत्पर रहेंगे। उनके लिए हर मरीज की जान बचाना व इलाज करना पहला लक्ष्य है। मरीजों की सेवा और उनका आशीर्वाद लेना उनकी प्राथमिकता है।

किसी की जान बचाना पुण्य का कार्य

 डॉ. गौतम त्रिपाठी ने कहा कि चंदौली जिले में सरकारी अस्पताल अपने मौजूद संसाधनों से मरीजों का इलाज कर रहा है, लेकिन कभी-कभी ऐसा देखा जाता है कि दुर्घटना के शिकार मरीजों को भी अक्सर वाराणसी के ट्रॉमा सेंटर रेफर कर दिया जाता है, जहां पर जाते जाते अक्सर कई मरीजों की जान चली जाती है। ऐसे में वह चंदौली जिले के अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों से अपील करते हैं कि वह स्वास्थ्य विभाग को इस बात के लिए अनुरोध करें कि अगर किसी मरीज की जान बचाने में उनकी विशेषज्ञता की जरूरत महसूस हो तो वह चंदौली जिला अस्पताल में जाकर निशुल्क मरीज को सेवा देने को तैयार हैं। अगर उनके एक-दो घंटे समय देने से किसी मरीज की जान बच जाती है तो इसके लिए वह कोई शुल्क नहीं लेंगे। 

इमरजेंसी हालत में निशुल्क सेवा देने को तैयार

डॉ गौतम त्रिपाठी ने बताया कि दुर्घटना के शिकार हड्डी रोग से संबंधित किसी मरीज के साथ-साथ वह इमरजेंसी क्रिटिकल केयर की भी विशेषज्ञता रखते हैं। ऐसे में इन सेवाओं को सरकारी अस्पताल में जाकर उन मरीजों को दे सकते हैं, जो या तो बहुत ही गरीब हैं या जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहे हैं। उनका उद्देश्य है कि सुविधा के अभाव में किसी मरीज की जान न जाए। अगर हम लोग थोड़ा सा प्रयास करके किसी की जान बचा लेते हैं तो यह बहुत बड़ा पुण्य का कार्य होगा।

आपको बता दें कि डॉ. गौतम त्रिपाठी चंदौली जिले में सूर्या हॉस्पीटल एंड ट्रामा सेंटर के प्रतिष्ठित चिकित्सक हैं और यहां पर कई अन्य विशेषज्ञ चिकित्सकों के साथ चंदौली जनपद के लोगों को सस्ती और उच्चस्तरीय चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की पहल कर रहे हैं।