जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
मृत महिला का वैक्सीनेशन करके बढ़ाया जा रहा है टीकाकरण का ग्राफ, देख लीजिए नमूना
चंदौली जिले में कोविड-19 टीकाकरण में लापरवाही देखने को मिल रही है। स्वास्थ्य विभाग ने मृतक महिला को कोरोना वैक्सीन का पहला और दूसरा डोज लगाकर ऑनलाइन फीडिंग कर दिया। 
 

मृत महिला का वैक्सीनेशन

बढ़ाया जा रहा है टीकाकरण का ग्राफ

चंदौली जिले में कोविड-19 टीकाकरण में लापरवाही देखने को मिल रही है। स्वास्थ्य विभाग ने मृतक महिला को कोरोना वैक्सीन का पहला और दूसरा डोज लगाकर ऑनलाइन फीडिंग कर दिया। इसका खुलासा मोबाइल पर मैसेज आने के बाद हुआ। इसको लेकर परिजन स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों से आपत्ति की। इसपर अधिकारी गोलमटोल जवाब दिया। फिलहाल पीएचसी अधीक्षक ने कोरोना वैक्सीन लगाने की ऑनलाइन फीडिंग की जांच कराने को कहा है।

आप को बता दें कि शासन के निर्देश पर कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर तेजी से वैक्सीनेशन कार्य किया जा रहा है। लेकिन इसमें लापरवाही देखने को मिल रही है। स्वास्थ्य कर्मियों ने क्षेत्र के देवखत गांव निवासी जुड़ावन मल की मृतक पत्नी लालती देवी को वैक्सीन का दोनों डोज लगा दिया। लालती की स्वाभाविक मौत बीते पांच अप्रैल को ही हो गई है। कहा जा रहा है कि उसके नाम पर गलत तरीके से 14 जून को कोरोना वैक्सीन का पहला व 13 नवंबर को दूसरा टीका सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की ओर से लगाए जाने का मैसेज मोबाइल पर आते ही परिजनों घबरा गए।

मामले में मृतका की वारिस एकलौती संतान माया देवी के पति जयप्रकाश ने बताया कि उनकी सास का 5 अप्रैल 2021 को देहावसान होने के बाद शव का अन्त्येष्टि कर दिया गया था। लेकिन स्वास्थ्य विभाग की ओर से उनको कोरोना वैक्सीन का दोनों डोज लगाने का मैसेज मोबाइल पर भेज दिया है। 

इस संदर्भ में बताया कि 14 जून को पहला टीका लगाए जाने का मैसेज मोबाइल पर आया तो तत्काल सीएचसी अधीक्षक डा. अवधेश कुमार सिंह पटेल को अवगत कराया गया। उन्होंने पुन: इस तरह की पुनरावृत्ति नहीं होने की बात कहकर मामले का पटाक्षेप करने को कहा था। फिर भी कोरोना वैक्सीन का दूसरा टीका लगाए जाने का मैसेज 13 नवंबर को आ गया। 

इन पर जा रही शक की सुई

आरोप लगाया कि मृतका लालती देवी के आधार कार्ड का छायाप्रति व हमारा मोबाइल नंबर गांव की आशा पुष्पा देवी के पास होने से स्वास्थ्य विभाग निर्धारित लक्ष्य की सार्थकता हासिल करने में ऑनलाइन फीडिंग कराकर फर्जीवाड़ा कर रहा है और टीकाकरण का डाटा बढ़ाया जा रहा है। एक और मामले में इसके पूर्व भी मरवटिया गांव निवासी पति पत्नी व पुत्र को कोरोना वैक्सीन का दूसरा टीका बिना लगवाए ही मोबाइल पर मैसेज आने का मामला प्रकाश में आया था। 

ऑनलाइन फीडिंग की होगी जांच 

इस फर्जीवाड़े के बारे में सीएचसी अधीक्षक डा. अवधेश कुमार सिंह ने बताया कि मृतक महिला को मरणोपरांत कोरोना वैक्सीन लगाए जाने की ऑनलाइन फीडिंग की जांच कराई जाएगी। यह सरासर गलत काम है और जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।